अमानक वर्ण

अमानक वर्ण  Hindi grammar questions for competitive exam part-5




1  शुद्ध वर्तनी    2 . अमानक वर्ण 

 (i)  -शुद्ध वर्तनी ➨ बर्तन की शुद्ध " वर्तनी " क्या है ?
बर्तन का शुद्ध वर्तनी ➨ "बर्तन " का शुद्ध वर्तनी   "बरतन "है ∣

  (ii) . अमानक वर्ण - हिंदी में बहुत से ऐसे वर्ण हुआ करते थे ,जो की वर्तमान समय में चलन में नहीं है ,अथवा हिंदी के मूल वर्णो में शामिल नहीं है।  इस प्रकार के  सभी वर्ण " अमानक वर्णो " की श्रेणी में  आते हैं Ι
 अर्थात वे   " वर्ण " जो पूर्व में तो मान्य रहे हो ,परन्तु वर्तमान वर्णमाला के दृस्टीकोण   से मान्य न  होते हो , अमानक वर्ण है ।
अमानक वर्ण क्या है ➨ ऐसे वर्ण जिनका कोई " मानक " न हो , तथा जो सर्वमान्य न हो " अमानक " वर्ण है , अथवा ऐसे वर्ण जिनका पहले तो मानक रहा हो परन्तु वर्तमान समय में उनका कोई " मानक " न  हो अमानक वर्ण कहलाते है ।

अमानक वर्ण किसे  कहते है ➨ जब कोई वर्ण वर्तमान परिपेक्ष्य  के मानकों  पर खरा नहीं उतरता अथवा वर्तमान में स्वीकार वर्णमाला में शामिल न  हो , अथवा पूर्व में स्वी…

आग्‍नेय, अवसादी, कायान्‍तरित चट्टाने/rocks

आग्‍नेय, अवसादी, कायान्‍तरित चट्टाने/rocks

विश्व का भूगोल (world geography gk in hindi pdf)



आग्‍नेय, अवसादी, कायान्‍तरित चट्टाने/rocks
आग्‍नेय, अवसादी, कायान्‍तरित चट्टाने/rocks


Part -1

 प्रश्न -१ - चट्टान का अर्थ क्या है ? चट्टान की परिभाषा क्या है ?



उत्तर - चट्टाने- विभिन्न प्रकार के खनिज पदार्थों के कठोर संगठन को ही चट्टान कहते हैं।


प्रश्न -2 -  चट्टानों का रूपांतरण कैसे होता है स्पष्ट कीजिए ?



उत्तर - चट्टाने मुख्यतः तीन प्रकार की होती हैं।

1- आग्नेय चट्टान

2- अवसादी चट्टान

3- रूपांतरित एवं कायांतरित चट्टान


प्रश्न -2 - आग्नेय चट्टान किसे कहते हैं ?


उत्तर - आग्नेय चट्टान - यह चट्टाने सबसे प्राथमिक चट्टाने होती हैं । यह चट्टाने ज्वालामुखी प्रक्रियाओं से निर्मित होती है। इनका निर्माण मेघमा के ठंडे होने पर होता है। यह चट्टाने दो प्रकार की होती हैं।


1- बाह्य आग्नेय चट्टाने



2- अभयान तरित चट्टाने




1- बाह्य आग्नेय चट्टाने - ज्वालामुखी उदगार से मैग्मा जब पृथ्वी की सतह पर आता है। तो इसे लावा कहते हैं। यही लावा ठंडा होकर बाह्य अग्नि चट्टानों या सेलों निर्माण करता है।


उदाहरण के लिए- बेसाल्ट, एंड्डसाइट, रायोलाईट


2- अभ्यांतरित आग्नेय चटाने - ज्वालामुखी उद्गार के समय कुछ मैग्मा पृथ्वी के आंतरिक परत मैं जमा हो जाते हैं। जिनके  ठंडे होने से अभियान तरित आग्नेय चट्टानों का निर्माण होता है।


उदाहरण के लिए- ग्रेनाइट, ग्रेबो, डायो राइट


आग्नेय चट्टानों के गुण-
आग्नेय चट्टानों के गुण-



आग्नेय चट्टानों के गुण-


1- आग्नेय शैलों में जीवाश्म नहीं पाए जाते हैं।

2- यह विभिन्न प्रकार के खनिज तत्वों के निष्कर्षण के लिए महत्वपूर्ण है।

3- यह छिद्रक नहीं होती है।

अवसादी चट्टानें- इन चट्टानों का निर्माण अनअच्छादन प्रक्रिया से होता है। इसके अंतर्गत चार चरणों के दौरान  चट्टानों का निर्माण होता है।


जो कि इस प्रकार हैं- अपक्षरण, अपरदन,स्थान्तरण, लिथियमसान


अवसादी चट्टानों के गुण इस प्रकार है।


1- अवसादी चट्टानों में जीवाश्म पाए जाते हैं।

2- यह जीवाश्म ईंधन जैसे कि- पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस, कोयला आदि के लिए उपयोगी होते हैं।

3- यह चट्टाने परतदार चट्टान  होती है।





कायांतरित चट्टान

कायांतरित चट्टान

कायांतरित चट्टान

प्रश्न - कायांतरित चट्टानों का निर्माण किस प्रकार होता है ?


उत्तर - कायांतरित  चट्टानों का निर्माण विभिन्न प्रकार के चट्टानों पर अत्यधिक दाब एवं ताप की वजह से होता है।


प्रश्न - " कायान्तरित चट्टान " के उदाहरण बताइये ?


उत्तर - कायान्तरित चट्टान के उदाहरण  निम्नलिखित है। जैसे कि - मार्बल, नीस आदि।


* कायांतरित चट्टानों के गुण इस प्रकार है।


1- यह चट्टाने सबसे कठोर व मजबूत होती है।


प्रश्न - चट्टानों का अध्ययन क्या कहलाता है ?





उत्तर - चटानों का अध्ययन "Patrology " कहलाता है। 




प्रश्न - रूपांतरित चट्टान के उदाहरण बताइये ?



उत्तर - चूना पत्थर ,बलुआ पत्थर ,संगमरमर 

world geography gk in hindi pdf  Part - 2 - 
click here 

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अमानक वर्ण

बाल विकास को प्रभावित करने वाले कारक pdf

sanskrit varnamala mock test