child development and pedagogy notes in hindi

child development and pedagogy notes in hindi

Facts - Only 
child development and pedagogy notes in hindi
Part - 1
1 -  वॉटसन के अनुसार - " मनोविज्ञान  - व्यवहार का विज्ञान है " ।
2 - मनोविज्ञान में " व्यवहार के अध्ययन " की 3 (तीन) प्रमुख  क्रियाओ को शामिल किया जाता है ।
जो की निम्नलिखित है।
(i ) -  व्यवहार में परिवर्तन होना ।
(ii  ) -   व्यवहार को अच्छी तरह से समझना ।
(iii ) - व्यवहार - को देखकर उसके लिए " भविष्यवाणी " करना । आदि विभिन्न प्रकार के तथ्यों का अध्ययन - हम " मनोविज्ञान " के अंतरगर्त करते है ।

3 - मन ➜   सामन्य भाषा में कहे - मनोविज्ञान - " मन का विज्ञान " है । परन्तु इस तथ्य पर " भारतीय दर्शन शास्त्र " के मनोविज्ञानिकों और - " पाश्चात्य  मनोविज्ञानिकों " में  विरोधाभास है ।


भारतीय - मनोविज्ञानिकों के अनुसार - " मन " - हमारे - ह्रदय के भीतर स्थित होता है । ,  जबकि - पश्चिमी मनोविज्ञानिकों - के अनुसार - " मन " -  हमारे - "मस्तिष्क " के भीतर स्थित होता है । अतः इस प्रकार भारतीय मनोविज्ञानिकों और  पास्चत्य मनोविज्ञानिकों में ये - "मतान्तर " है ।

4 - परा.मनोविज्ञान क्या है ?
परामनोविज्ञान ➔ " परामनोविज्ञान " के अंतरगर्त - " चमत्कारिक क्रिया - कलाप " से सम्बंधित  विषयो का अध्ययन किया जाता है ।  जैसे कि - " पूर्व जन्म की स्मृति " का होना ।

5 - शिक्षा मनोविज्ञान क्या है ?
शिक्षा मनोविज्ञान  ➔ शिक्षा शब्द  संस्कृत  भाषा के " शिक्ष " धातु से बना है । जबकि  "एजुकेशन " शब्द - लेटिन भाषा  के  - " एडुकेयर " शब्द से बना है , जिसका अर्थ होता है कि  - "नेतृत्व करना ।  शिक्षा-मनोविज्ञान वह विज्ञान है , जिसमे कि प्रमुख रूप से  - दो  - बिन्दुओ का अध्ययन किया जाता है । 
  शिक्षा मनोविज्ञान  - " मनोविज्ञान " की ही एक शाखा है । जिसकी  की उत्पत्ति  - 1900  की मानी जाती है । मनोविज्ञान की शाखा - "शिक्षा मनोविज्ञान " के अंतरगर्त - शिक्षण और  अधिगम को शामिल किया जाता है ।
वही - "प्लेटो " ने शिक्षा को - " शाररिक - मानसिक - तथा बौद्धिक विकास " की प्रक्रिया माना है। 
(i  ) शिक्षण  - शिक्षण से तात्पर्य है कि  - " बालक की शिक्षा किसी और किस प्रकार होगी , या होती है।  एवं इसमें किन - किन आयामों को शामिल किया जाता है आदि तथ्य एवं वे सभी तथ्य जो कि  - बालक की शिक्षा सम्बन्ध में विभिन्न तरह से स्पस्टीकरण करते हो।  आदि अध्ययन किया जाता है।  
 शिक्षण
  ( ii ) अधिगम  -   सामान्य भाषा  अधिगम का अर्थ होता है - " सीखना " अर्थात जब बालक के द्वारा कुछ नया  सीखा जाता है , तो - उससे हम  बाल -विकास  या शिक्षा विजान की भाषा के अंतरगर्त - " अधिगम " कहते है। 


6 - मनोविज्ञान के अनुसार - मानव का व्यवहार दो प्रकार का होता है । जिसमे पहला व्यवहार होता है - हमारा - " बाह्य व्यवहार "  और दूसरा होता है -  हमारा - " आंतरिक व्यवहार " ।

(i ) बाह्य व्यवहार -   बाह्य व्यवहार से तात्पर्य उस व्यवहार से होता है , जिसे प्रत्यक्ष रूप से देख सकते है । अर्थात ऐसा व्यवहार जिसे हम - देख पाए  या ऐसा व्यवहार जो हमे बाहरी रूप से दिखाई दे , उसे हम मानव का "बाह्य व्यवहार " कहते है । 
उदाहरण के लिए - -  रोना , हंसना  , चिल्लाना  आदि आते है ।
बाह्य व्यवहार

(ii ) आंतरिक  व्यवहार -    आंतरिक व्यवहार ऐसा व्यवहार होता है ,  जिसे हम " प्रत्यक्ष " रूप में नहीं देख सकते है I  अर्थात ऐसा व्यवहार जो बाहरी रूप से दिखाई ना दे , या जिसे हम देख न पाए , ऐसा व्यवहार -  " आंतरिक व्यवहार " कहलाता है ।
उदाहरण के लिए - रक्तचाप होना ( blood - pressure ) - , भय होना , चिंता  होना , आदि आते है।

आंतरिक  व्यवहार

7- महात्मा गांधी के अनुसार -  " शिक्षा से मेरा अभिप्राय बालक को मनुष्य के शरीर ,मन , आत्मा के सर्वाग्रींण  एवं सर्वोत्तम  विकास से है।  "

8 - मनोविज्ञान और शिक्षा मनोविज्ञान में अंतर  -  मनोविज्ञान और  शिक्षा  मनोविज्ञान  में निम्नलिखित अंतर या भिन्नता है , जो कि इस प्रकार है ।
मनोविज्ञान और शिक्षा मनोविज्ञान में अंतर
अन्तर - 
1  -  मनोविज्ञान अपने आप में एक स्वतंत्र विषय है। , जबकि - "शिक्षा मनोविज्ञान " मनोविज्ञान की ही एक शाखा है। 
2 -  मनोविज्ञान का क्षेत्र बड़ा एवं विस्तृत है , वही - " शिक्षा मनोविज्ञान " का क्षेत्र सीमित है। 
3 - मनोविज्ञान का कार्य उन सभी विषयो अथवा क्षेत्रों के व्यवहार के अध्ययन को समझना , अथवा नियंत्रण करना अथवा - भविष्यवाणी करना है ।
4 - मनोविज्ञान के विस्तृत क्षेत्र में उन सभी तथ्यों का अध्ययन किया जाता है , जो कि उसके अंतरगर्त आते है , जबकि - "शिक्षा मनोविज्ञान " में  " शिक्षा " से सम्बंधित - परिस्थतियों , क्रियाओं , प्रतिक्रियों आदि का अध्ययन किया जाता है ।



9 - वृद्धि और विकास में क्या अंतर है ?
9 - वृद्धि और विकास में अंतर  -  वृद्धि और विकास में निम्नलिखित अंतर है , जो इस प्रकार है ।

वृद्धि और विकास में अंतर

विकास -   विकास आजीवन चलने वाली प्रक्रिया है।    विकास का क्षेत्र बहुत ही विस्तृत है।  जिसमे हमारे सपूर्ण विकास के क्षेत्र को शामिल किया जाता है।  जिसमे हमारा - शारीरिक विकास और मानसिक विकास दोनों आते है।  विकास अपने आप एक विस्तृत अर्थ को लिए हुए है । विकास के अंतरगर्त - " वृद्धि " एक छोटा सा भाग है । या ये कहे कि - " वृद्धि " ही विकास के अंतरगर्त आती है ।
वृद्धि  -  वृद्धि  हमारे विकास की प्रक्रिया के अंतरगर्त होने वाली एक - छोटा सा भाग है।  जिसमे  केवल  " वृद्घि " को ही शामिल किया जाता है।  वृद्धि का समयकाल एक निश्चित होता है , अर्थात वृद्धि एक निश्चित समय तक ही होती है।  अर्थात - संपूर्ण विकास में होने वाला एक छोटा सा भाग है। 

⇀ विकास के अंतगर्त -  -  कार्य कुशलता , कार्य क्षमता , व्यवहार आदि  विभिन्न प्रकार की क्रियाओ को शामिल किया जाता है। 
जबकि वृद्धि के अंतरगर्त -  बालक के आकार का बढ़ना , लम्बाई का बढ़ना आदि विभिन्न तथ्यों को शामिल किया जाता है। 

⇀ विकास एक ऐसी प्रक्रिया है , जो कि  व्यक्ति के जीवन में " जीवन -पर्यन्त " चलती रहती है। कभी भी रूकती नहीं है , जब तक मनुष्य जीवित रहता है ,तब तक विकास की क्रिया चलती रहती है।  
जबकि " वृद्धि " एक निश्चित समय काल तक ही चलती है ।  अर्थात वृद्धि विकास की तरह कभी भी जीवन भर नहीं चलती है।  वृद्धि की एक निश्चित समय सीमा या समय काल होता है। 

⇀ विकास के अंतगर्त " वृद्धि " की सभी क्रियाओ को शामिल करते है , जबकि  " वृद्धि " होने का अर्थ यह बिलकुल भी नहीं होता है , कि  उसमे " विकास " भी हो रहा है।  कियोकि  वृद्धि का दायरा सीमित है , जबकि विकास का दायरा विस्तृत है। 
मानसिक विकास

10 - मानसिक विकास ⇀ मानसिक विकास एक ऐसा विकास होता है , जो निरंतर चलता रहता है।  अर्थात जैसा की - हम जानते है कि  - हमारे शारीरिक विकास की एक समय सीमा अथवा काल होता है , जिसके बीच में ही शारीरिक विकास होता है , या ये कहे की एक निश्चित समय तक ही हमारा शारीरिक विकास होता है। 
जबकि हमारा मानसिक विकास निरंतर चलता रहता है। 
मानसिक सा मनो शाररिक विकास के अंतरगर्त - विभिन्न तरह के अन्य विकास को भी शामिल किया जाता है। 
जैसे कि  -
 ⇀मानसिक विकास होना। 
⇀  सामाजिक विकास होना। 
⇀  सामाजिक विकास होना। 

11 - इसके अलावा यदि हम भारतीय - मनीषियों की बात करे , तो हम देखते है कि भारतीय मनीषियो ने - " मानव विकास को 7 (सात ) भागो में विभाजित किया है।  जो क़ि इस प्रकार है। 


भारतीय मनीषियो अनुसार 
(i )  गर्भावस्था - इसके अंतरगर्त - " गर्भाधान से जन्म तक " के समय काल को शामिल किया जाता है। 
 (ii ) शैशववस्था   - इसके अंतरगर्त - " जन्म  से 5 वर्ष तक " के समयकाल को शामिल किया जाता है। 
(iii )  बाल्यावस्था - इसके अंतरगर्त - " पांच वर्ष से 12 वर्ष तक " के समयकाल को शामिल किया जाता है। 
(iv ) किशोरावस्था - इसके अंतरगर्त - " 12 वर्ष से 18 वर्ष तक " के समय काल को शामिल किया जाता है। 
(v ) युवा वस्था - इसके अंतरगर्त - " 18  वर्ष से 25 वर्ष तक " के समयकाल को शामिल किया जाता है। 
(vi ) प्रौढ़ावस्था - इसके अंतरगर्त  - " 25 वर्ष से 55 वर्ष तक " के समय काल को शामिल किया जाता है। 
(vii )  वृद्धावस्था - इसके अंतरगर्त - " 55 वर्ष से मृत्यु तक " के समयकाल को शामिल किया जाता है। 



इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अमानक वर्ण

sanskrit varnamala mock test

प्रौढ़ावस्था किसे कहते हैं