अमानक वर्ण

अमानक वर्ण  Hindi grammar questions for competitive exam part-5




1  शुद्ध वर्तनी    2 . अमानक वर्ण 

 (i)  -शुद्ध वर्तनी ➨ बर्तन की शुद्ध " वर्तनी " क्या है ?
बर्तन का शुद्ध वर्तनी ➨ "बर्तन " का शुद्ध वर्तनी   "बरतन "है ∣

  (ii) . अमानक वर्ण - हिंदी में बहुत से ऐसे वर्ण हुआ करते थे ,जो की वर्तमान समय में चलन में नहीं है ,अथवा हिंदी के मूल वर्णो में शामिल नहीं है।  इस प्रकार के  सभी वर्ण " अमानक वर्णो " की श्रेणी में  आते हैं Ι
 अर्थात वे   " वर्ण " जो पूर्व में तो मान्य रहे हो ,परन्तु वर्तमान वर्णमाला के दृस्टीकोण   से मान्य न  होते हो , अमानक वर्ण है ।
अमानक वर्ण क्या है ➨ ऐसे वर्ण जिनका कोई " मानक " न हो , तथा जो सर्वमान्य न हो " अमानक " वर्ण है , अथवा ऐसे वर्ण जिनका पहले तो मानक रहा हो परन्तु वर्तमान समय में उनका कोई " मानक " न  हो अमानक वर्ण कहलाते है ।

अमानक वर्ण किसे  कहते है ➨ जब कोई वर्ण वर्तमान परिपेक्ष्य  के मानकों  पर खरा नहीं उतरता अथवा वर्तमान में स्वीकार वर्णमाला में शामिल न  हो , अथवा पूर्व में स्वी…

basic math for all tet exams in hindi

basic math for all tet exams in hindi

math for tet
part-2




 प्रश्न 1 - नीचे दिए त्रिभुज ABC में सभी किनारों का कुल परिमाप कितना है ?
त्रिभुज ABC



 हल - सभी किनारो का कुल परिमाप = ( 4+3+2)

= 9 सेमी                                               उत्तर 

2 -  परिमाप  -  FACT 
  1 - यदि किसी खेत के चारों और बाड़ लगी हुई है , तो उस खेत के किनारो की लम्बाई का योग उस खेत का " परिमाप " होगी I
2 - यदि हम किसी मैदान के चारो और एक चक्कर  लगाते है , तो हमारे द्वारा मैदान मे चक्क्कर लगाने में चली गयी दूरी उस मैदान का परिमाप कहलाती है ।

3 - किसी पुस्तक की लम्बाई और चौड़ाई को हम  उस पुस्तक का परिमाप कहते है ।
4 - आयताकार आकर्तियों में आमने - सामने की भुजाओं  बराबर होती है Ι

5 - आयत के परिमाप का  सूत्र इस प्रकार है ।
  सूत्र 
आयत के परिमाप = 2 (लम्बाई + चौड़ाई )
6 - वह आयत जिसकी चारो भुजाये बराबर हो , वर्ग कहलाता है ।

प्रश्न 1  - एक आयताकार आकर्ति  जिसकी लम्बाई 6 सेमी ,चौड़ाई 4 सेमी है ,तो उसका परिमाप क्या होगा ?


 हल - 
सूत्र = आयत के परिमाप = 2 (लम्बाई + चौड़ाई )
          आयत के परिमाप  = 2 ( 6 + 4 ) 
          आयत के परिमाप 2 (10 )  =    20         
 अतः  आयत के परिमाप = 20                         उत्तर 

 समय (घडी ) 🕓

  1 - घडी में छोटी सुई घंटा और बड़ी सुई मिनट को इंगित करती है ।
  2 - बड़ी सुई 24 घंटे में डायल के 24 चक्कर लगाती है I
  3- छोटी सुई 24 घंटे में डायल के २ चक्कर लगाती है । 
  4 - घंटे को मिनट में बदलने के लिए घंटे की संख्या में 60 का गुणा किया जाता है ।
 5 - मिनटों को घंटों  बदलने के लिए घंटो की संख्या में मिनटों  का भाग देते है I
 प्रश्न -1 - 670 मिनटों को घंटो व मिनटों  बदलिए ?
हल - =  60   ➗ 670  
        =  11 घंटे 10 मिनट                   उत्तर  

कैलेंडर 
1 - अप्रैल ,जून ,सितम्बर तथा नवम्बर माह " 30 दिन " होते   है l
2 - जनवरी , मार्च , मई ,जुलाई , अगस्त ,अक्टूबर , तथा दिसम्बर माह 31 दिनों के होते है ।

3 - जिस वर्ष को हम 4 से पूर्णतः विभाजित कर सकते है , उस वर्ष में फरवरी माह  29 दिनों का होता है , और वर्ष के दिनों की संख्या 366 होती है ।


4 - एक वर्ष में 365 दिन होते है , वर्ष का सबसे छोटा महीना फरवरी का होता है ।
5 - सन 2006 में फरवरी 28 दिन की दिन की थी ।
6 - लीप वर्ष में " 366 " दिन होते है Ι

ज्यामितीय आकर्तियाँ 
 1 - वर्ग -  वर्ग के चारो भुजाओ की लम्बाई एक समान होती है ।
varg
2 - आयत -  इसकी आमने - सामने की भुजाओ की लम्बाई समान होती है ।
आयत
3 - त्रिभुज की तीनो भुजाये समान लम्बाई की हो सकती है , और नहीं भी ।


 त्रिभुज





4 - वृत - ये एक गोल घेरा होता है , जिसमे कोई भी कोना नहीं होता है ,एवं इसके बीचो - बीच एक केंद्र बिन्दु होता है । उस केंद्र बिंदु से किसी दूसरे बिंदु तक की दूरी उस " वृत " की त्रिज्या कहलाती है । 
वृत




वृत  का व्यास - वृत  के केंद्र से होकर वृत पर स्थित दो बिन्दुओ के बीच की दूरी " व्यास " कहलाती है । वृत का व्यास उसकी त्रिज्या का दो गुना होता है । त्रिज्या व्रत के व्यास की आधी होती है Ι इसलिए त्रिज्या को अर्ध व्यास भी कहते है Ι
  वृत में दो बिन्दुओ को मिलाने वाली रेखा को " जीवा " कहते है । 


 अंक - गणित 
 1 - किसी संख्या को किसी प्राकृत संख्या से गुना करने पर गुणनफल उस संख्या का " गुणज " कहलाता है ।
2 - किसी संख्या के गुणज अनंत हो सकते है , प्रत्येक संख्या स्वयं का एक गुणज होती है ।
3 - संख्या " 1 ' न तो भाज्य है और ना ही " अभाज्य "
4 - संख्या २ के अपवर्त्य - 2,4,6,8,10,12
5-  संख्या 3 के अपवर्त्य - 3,6,9,12,15,18

6-  यदि किसी भिन्न में अंश हर से छोटा होता है , तो इस प्रकार की भिन्न को हम सम भिन्न कहेगे , जैसे कि 3 / 7 
7 - यदि किसी भिन्न में अंश हर से बड़ा अथवा बराबर होता है , तो इस प्रकार की भिन्न को हम " विषम ' भिन्न कहते है । जैसे कि - 8 /5 
8 - समान हर वाली भिन्नो को " सजातीय भिन्न ' एवं आसमान हर वाली भिन्नो को हम " विजातीय भिन्न "  कहते है ।
9 - तुल्य भिन्न - भिन्नो के अंश व हर में एक ही संख्या का गुना करके तुल्य भिन्न ज्ञात की जाती है ।
10- सरलतम या लघुतम पद वाली भिन्न -   जब हम किस भिन्न को किसी संख्या से अंश और हर में भाग  देने पर जो भिन्न आती है , उससे " सरलतम रूप " कहते है I अर्थात - यदि हम 15 / 21  में संख्या 3 से भाग दे तो 5 /7 से अधिक छोटी भिन्न नहीं नहीं होगा ,अतः संख्या  5 /7 संख्या 15 /21 का सरलतम रूप हैं l
11 - भिन्नो की तुलना -  भिन्नो की तुलना समान हुआ वाली भिन्नो के अंशो के आधार पर करते है , उदहारण के लिए - यदि p /q  और r /q दो समान हर वाली भिन्न है l अतः इसमें  जिसका अंश बड़ा होगा वह भिन्न बड़ी होगी l परन्तु यदि भिन्नो के हर अलग - अलग मान के है , तो इन भिन्नो में किसी एक भिन्न के हर का गुणा दूसरे भिन्न के अंश और हर में करके उसको समतुल्य बना लेते है l 
12 -  शून्य -   शून्य " प्राकृत संख्या " नहीं है l
13 - परिमेय संख्या -  ऐसी संख्या जो भिन्न अथवा बटे के रूप में हो , परिमेय संख्या कहलाती है l  जैसे की  - 2 /5 
किन्तु यदि किसी भिन्न के  हर में  " शून्य " हो तो वह संख्या कोई परिमेय संख्या नहीं मानी जायेगी I जैसे की - 5 / 0 - परिमेय संख्या नहीं है l वही उसके ठीक विपरीत यदि किसी भिन्न के " अंश " में शून्य आता है तो वह परिमेय संख्या मानी जायेगी , कियोकि - अंश में संख्या   स्थान  पर संख्या " 1 " को रखा जा सकता है l जैसे की - 0 /5 


14 - भिन्नो में योग - भिन्नो का योग तभी संभव होता है , जब भिन्न सजातीय ( सामान हर वाली ) हो ,किन्तु  यदि भिन्न विजातीय 
( असमान हर वाली ) हो , तो योग करने के लिए उन्हें पहले सजातीय बनाया जाता है l
15- संख्या " 1 ' को परिमेय संख्याओं का गुणात्मक अवयव कहते है , कियोकि परिमेय संख्या में " 1 " का गुणा करने पर वही परिमय संख्या प्राप्त होती है l

16 - 
प्रश्न - उत्तर 
प्रश्न 1 - एक करोड़ में कितने सैकड़े (100) होते है ?
हल -  10000000 ➗ 100  = 100000
 अतः एक करोड़ में कुल 1 लाख सैकड़े होंगे I         उत्तर 
प्रश्न - 2 - निम्नलिखित परिमेय संख्याओं को पूर्णाक के रूप में लिखिए 
 18 /1 , -14 /1  , 21 / 3  , 0 / 15 
हल - 18 , - 14 , 7 , 0   उत्तर 
प्रश्न 3 - निम्नलिखित पूर्णाकों को परिमेय संख्या के रूप  लिखिए 
  -9 , 17 ,-28, 0
हल -  -9/1 , 17/1 , -28/1  , 0/1    उत्तर 

 प्रश्न 4 - नीचे दी गयी संख्यायों का " गुणन प्रतिलोम " बताये ?
संख्या - 6/5, -17/28  , -11/18  , 0.25
हल - (1)  6/5   =   5/6
        (2)  -17/28  =  -28/ 17
        (3) -11/18 =  -18/11
        (4)  0.25  =  1/.25                      उत्तर 
प्रश्न 5 - संख्या 3 /4  को दसमलव रूप में परिवर्तित कीजिये ?
हल -  3 ➗ 4  =   0. 75     उत्तर
 प्रश्न 6 - निम्नलिखित संख्याओं का " निरपेक्ष मान " ज्ञात कीजिये ?
(1) 3/5 
(2) - 8/7
(3) -9/13
(4) 13/7
हल -  (1) 3/5 - उत्तर
         (2) 8/7 - उत्तर
         (3) 9/13 - उत्तर
         (4) 13/17 - उत्तर
प्रश्न 7 - 3,5,7,1,2, अंको से मिलकर बनने वाली सबसे छोटी व सबसे बड़ी संख्या में अतर ज्ञात कीजिये ?
हल - सबसे बड़ी संख्या = 75321
      सबसे छोटी संख्या = 12357
अंतर = 75321- 12357  = 62964 ans
प्रश्न 8 - 5,3,4,0,6 के अंको से मिलकर सबसे बड़ी से बड़ी व छोटी से छोटी संख्या ज्ञात कीजिये ?
हल - सबसे बड़ी संख्या =  65430 - 
        सबसे छोटी संख्या = 30456 
 प्रश्न 9 - संख्या - 23 ❌ 96 ❌ 54 ❌ 19  में इकाई का अंक ज्ञात कीजिये ?
हल -
1 -  संख्या  23 का इकाई का अंक = 3
2 - संख्या  96  का इकाई का अंक = 6 
3 - संख्या  54   का इकाई का अंक = 4 

4 -  संख्या  19   का इकाई का अंक = 9  
    =  (3 ❌ 6 ) ❌( 4 ❌ 9 )
     =   18 ❌ 36 
 18 का  इकाई का अंक   = 
 36 इकाई का अंक  = 6 
 अतः = 6 ✖️ 8 = 48 
 अतः इकाई का अंक = 8  - उत्तर

प्रश्न 10 -  एक भाजक भागफल का 25 गुना तथा शेषफल का 5 गुना है । यदि भागफल - 16 हो , तो भाज्य क्या होगा ?
हल - भागफल = 16
          भाजक =  16 X 25  = 400 
          शेषफल = 16 X 5 = 80 
  = 16 x 400 ➕ 80 
  =  6400 + 80 = 6480   उत्तर







इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अमानक वर्ण

बाल विकास को प्रभावित करने वाले कारक pdf

बाल विकास के सिद्धांत हिंदी पीडीएफ